Kia Seltos के वाकये पर अब तक की पूरी बात। संक्षिप्त में।

9 Aug , 2019 Uncategorized

नमस्कार दोस्तों,

कुछ दिनों से आप Kia Seltos व उसकी मीडिया ड्राइव से जुड़ी कुछ बातें सुन – देख रहे होंगे। इस पूरे मुद्दे के बारे में एक पोस्ट शेयर किया गया था लेकिन वह अंग्रेजी भाषा में था और थोड़ा विस्तार में था तो सोच रहा हूं कि फिर से हिंदी में व  में थोड़े आसान शब्दों में आपके साथ सब शेयर करूं और साथ ही बताऊं कि आगे क्या हुआ और अभी क्या चल रहा है। 

शुरुआत। 

कार व बाइक निर्माता कंपनियां आजकल कुछ मीडिया को ख़ास तवज्जो देने लगी है। ये चीज़े काफी इवेंट्स में हम समझ सकते हैं कि कई कारणों से होती है लेकिन बात जब बड़े पब्लिक इवेंट की होती है, यानी कि ऐसे इवेंट जिन से आम जनता को फर्क पड़े, तो सभी मीडिया को एक समान मौका मिलना चाहिए।

  • Kia मोटर्स भी कुछ ऐसी ड्राइव्स, कुछ चुनिंदा मीडिया के साथ में करने की कोशिश कर रही थी, ये हमे खबर मिली।
  • Kia को जब इस बारे में पूछा गया तो उनका जवाब आया की जो ड्राइव हो रही है वो सिर्फ कंपनी के खुद के फीडबैक के लिए हो रही है।  आम जनता के साथ गाडी की कोई भी बात साझा नहीं की जायेगी।
  •  लेकिन कुछ दिनों बाद उनकी सभी बातें आम जनता में शेयर की जाती है और कुछ चुनिंदा मीडिया गाड़ी के बारे में अपनी राय देते नज़र आती हैं और बाकी बचे मीडिया को गाड़ी नहीं दिखाई जाती।
  • इस झूठ से हम सतर्क हुए और आवाज ऊँची करने की सोची।

किआ से हमारी बातचीत। 

जब पानी सर से ऊपर चला गया तो हम लोगों (Motoroids, MotorBeam, GearFliq, GaadiWaadi, IndiaCarNews, CarBlogIndia, GaadiFy) ने इस चीज को इसके खिलाफ आवाज उठाने की कोशिश की।

  • फिर हमें Kia ने अपनी एक मीडिया ड्राइव का निमंत्रण भेजा जिसमें वह सभी मीडिया को बुलाना चाहते थे। (हर कंपनी ऐसा करती है लेकिन Kia ने पहले ही एक मीडिया ड्राइव करवा दी थी जिसमे बुलाई गयी मीडिया ने अपने रिव्यु आम जनता को दे दिए थे, और उसके बारे में सब कुछ इंटरनेट आदि पर छप चुका था बुकिंग शुरू हो चुकी थी लोगों का पैसा लग चुका था) तो जब मीडिया ड्राइव हो चुकी है लोगों को गाड़ी के बारे में रिव्यू दिया जा चुका है तो फिर एक और मीडिया ड्राइव का क्या मतलब। 
  • इस बारे में जवाब मांगा और यह भी कहा कि अगर स्पष्टीकरण नहीं मिला तो हम नहीं आएंगे।

Kia की और से कोई संतुष्टि जनक जवाब नहीं दिया गया बल्कि इस दौरान एक मार्केटिंग एजेन्सी ने हमें कांटैक्ट किया हमारी संगठन को तोड़ने की कोशिश की गई।

हमारा एक्शन 

  • 6, 7, 8, 9 अगस्त को उक्त मीडिया ड्राइव होनी थी और हम 7  लोगों ने निर्णय कर लिया था कि हम नहीं जाएंगे।
  • चूँकि आप लोगों ने सवाल पूछा कि Kia सेल्टोस की वीडियो या पोस्ट कब आएंगे तो हमने इस बात को एक पोस्ट के जरिए आप सभी लोगों के साथ साझा किया 8 अगस्त को।
  • 9 अगस्त की शाम को एक विचित्र घटना हुई। जो बातें आप लोगो के साथ Twitter  पे साझा की गई थी उन पर अजीब तरीके के रिप्लाई आने लगे।
  • जब थोड़ी सी जांच की गई तो पता चला कि जो रिप्लाई कर रहे हैं वो सभी आईडी उन लोगों की है जो आमतौर पर पैसा लेकर कुछ भी लिखने को तैयार हो जाते हैं यानी कि वह फर्जी आईडी थी, सारी।
  • यह नहीं कह सकते कि किसने पैसा दिया लेकिन सवाल यह है कि इसकी जरूरत क्यों पड़ी?

 

अभी जो है वह कुछ इस प्रकार है। 

कुछ सवाल है जो कि हम चाहते हैं कि kia मोटर्स की तरफ से आंसर किए जाए।

  • Kia मोटर्स ने अपनी पहली प्रोडक्शन-रेडी कार 8 अगस्त को प्लांट से निकाली। लेकिन जितनी गाड़ियां मीडिया को मिली और डीलर के पास टेस्ट ड्राइव के लिए दी गई कि वह 8 तारीख से पहले ही दे दी गई थी।  तो वह गाड़ियां कहां से आयी? अगर वह गाड़ियां प्रोडक्शन रेडी नहीं है, प्री प्रोडक्शन है या प्रोटोटाइप है तो उसके बारे में किसी भी मीडिया हाउस या डीलरशिप की ओर से चीजें बताई क्यों नहीं जा रही है?
  • Kia मोटर्स पहले कुछ चुने हुए, उनकी पसंद के, मीडिया को बुलाकर रिव्यू शब्द का इस्तेमाल करके कुछ पोस्ट करवाती है, तो फिर बाद में बाकी मीडिया जो है उनसे रिव्यू करवाने की कहां जरूरत पड़ती है? क्या जर्नलिज्म  के रास्ते मार्केटिंग की जा रही है ?
  • एक चीज समझाना थोड़ा सा पेचीदा है लेकिन इस चीज को समझने की कोशिश कीजिएगा क्योंकि यह पूरी बगावत का सार है। और यही इस चीज की बुनियाद है। हमें किसी भी प्रकार की कोई भी समस्या नहीं है अगर Kia मोटर्स किसी भी मीडिया हाउस को चुने और उनके साथ में कुछ स्पेशल इवेंट्स या ड्राइव्स करें। लेकिन परेशानी तब आती है जब एक “रिव्यू” शब्द का इस्तेमाल किया जाता है। यानि कि एक मीडिया हाउस अपनी राय लोगों तक पहुंचाता है और उस गाड़ी की बुकिंग शुरू हो जाती है।         यहां पर होता यह है कि सिर्फ दो या तीन मीडिया हाउस, जिनको Kia मोटर्स चुनती है उन्हीं की राय आम जनता को दिख पाती है और उसी वक्त बुकिंग भी शुरू होती है। जब कोई प्रोडक्ट किसी कंपनी का मार्केट में आ रहा है और मीडिया का इस्तेमाल किया जा रहा है तो हर मीडिया को बराबर का मौका मिलना चाहिए, यह इस बात का सार है।
    दुनिया भर के पूरे मीडिया जगत में एक शब्द बहुत पॉपुलर है, वह है Embargo. इस का मतलब है कि सभी मीडिया के लोगों को दिए गए प्रोडक्ट्स पर अपनी राय तब तक शेर नहीं करनी है जब तक कंपनी पूरी मीडिया को मौका न दे पायी हो। या फिर, सब लोगों को नहीं तो आमतौर पर जितने भी लोगों को मौका मिलता है बाकी सब जगहों पर उतने लोगों को मौका दिया जा चुका हो।            Kia Seltos  ड्राइव में एंबार्गो उस वक्त फॉलो नहीं किया गया जब कुछ चुनिंदा मीडिया को पहले ही बुला कर रिव्यू करवाया जाता है और उसके बाद बुकिंग ओपन हो जाती है और फिर उसके कुछ सप्ताह बाद बाकी मीडिया को मौका दिया जाता है।  इस चीज़ में कंपनी को ये मौका मिल जाता है की वो अपनी खुबिया लोगो तब पंहुचा दे और बुराइया छुपा दे।  हमे नहीं लगता Kia मोटर्स इस तरीके की हरकत पत्रकार लोगो से करवाना चाहती है लेकिन क्यूंकि ऐसी ड्राइव हुई है तो उस पर सफाई अब जरुरी है। ऐसा करने की क्या जरुरत पड़ी?

इन दो-तीन दिनों में हमें यह भी महसूस हुआ है कि कुछ बातों पर हमें भी सफाई देनी चाहिए।

  • एक चीज यह कि भले ही हमने Kia मोटर्स की मीडिया ड्राइव में ना जाने का निर्णय लिया लेकिन उसका यह मतलब नहीं है कि हम उस गाड़ी के बारे में अपनी राय आप लोगों से साझा नहीं करेंगे। राय साझा की जाएगी, हां लेकिन उसमें कुछ वक्त अब लग सकता है क्योंकि हम उस मीडिया ड्राइव पर मौजूद नहीं थे और अब हमें अपने स्तर पर गाड़ी को अरेंज करके उसके बारे में राय आपके साथ साझा करनी पड़ेगी।
  • दूसरी बात कि इस पूरे वाकये का असर किसी भी तरीके से हमारी Kia सेल्टोस पर बनने वाली राय पर नहीं पड़ेगा यानी कि हम जब भी उस पर अपना रिव्यू देंगे वह पूरी तरीके से बेबाक होगा जैसा कि पहले सभी गाड़ियों के साथ होता आया है। भले ही Kia  से हमारे संबंध अच्छे अब ना रहे हों लेकिन उसका मतलब यह नहीं कि उनके प्रोडक्ट को भी हम उस संबंध की बुनियाद पर तोलेंगे। 

 

कुछ links:

Kia Seltos Production begins: Link

Our Statement on Kia Seltos Issue: Link

Image of Media claiming it was not a prototype. Link Image Source: Viewer.


18 Responses

  1. Sriom Sangeet Tripathy says:

    Yes bhai aap sahi kar rahe ho. Kia mein itni himmat kahan se aai ki woh hamare sawaal ka jawaab na de aur hame media drive mein na bulaaye. Ham aapke saath hain.

  2. Kapil nagpurkar says:

    Yeh log nai sudar sakte sir,kabhi. Yeh talent ki kadar ni krte bas name aur fame par jate hai.ap apni jgh bilkul sahi hai. Me ap sab ki bat ka puri trh se samarthan krta hu.

  3. Virendra Singh Choudhary says:

    Good decision all of you sir

  4. Gokuldas Shinde says:

    Hello brother … Your doing right… But don’t understand why amit khare is not with you… As you are working together in gaadify… And now i notice i want to open http://www.gaadify.com but it opens gaganchoudhry.com what is that.
    What happened with gaadify

  5. Neeraj says:

    Hi, Gagan ji.
    As a fellow auto enthusiast and a keen driver myself, I absolutely stand by your decision to raise voice against the partiality done by KIA motors. Inviting select jurnos to a media drive and not imposing any embargo clearly suggest that Kia motors were trying to set a narrative that would favour their sales figure. This is not only wrong but unethical. Out of n numbers of companies, it was least expected by a firm that is known to make world class products and by doing so, Kia has itself pulled a curtain of doubt over its new product- the Seltos.
    I hope such biased practices will not be seen in the future.
    Keep up the good work and my best wishes.
    Neeraj

  6. Vanshi Mathur (Car'O'Gyan) says:

    Bhai abhi tak brand settle bhi nhi hui h Kia dhant se, aur abhi se ye log panga karne lag gaye to kyaa market value rahegi inki?😠

  7. Yogesh patidar says:

    👌👍

  8. Paramveer says:

    भाई वो टकला क्यों भड़का तेरे पे?

  9. Rahul says:

    Jab ye media Ko yese deal kr rhe h to customer inke pass Apne problem le ke jayenge tab Inka kya behaviour hoga ….

  10. Anirban says:

    Kia ko No-kia? Aarre baapre!!! Yeh to bahat sahi Kia. Ke sacchai chhup nehi sakti banawat ki marketing se. Ke khusboo nehi aati kagaj ke phulon se.

  11. Nitin minz says:

    Sorry gagn bhai…mai apko galat samja tha…
    Aplog sahi ho.
    Love you gagan bhai.

  12. Nitin bachhas says:

    Aaye hue din nahi hue, or apne ko bahot badi company samaj rahi. Bhaad mai jaye kia or uski car…..

  13. Neeraj Pant says:

    I don’t understand itna accha aur promising product nikala hai. KIA motors ko yeh sb karne ki jarurat kyo padi.

  14. Raghav Sharma says:

    Aap apne asullo par rahe aacha laga dekh kar. Majn bhi soch itni motoroctane ka review kaise aa gaya anyways Review kuch time car aache se chalakar hee hona chahiy becoz jo log review dekhker car lena pasand karte woh yeh expect bhi karte hai ki reviewer car 5/10 hazaar km car chala chuka hai anyways aapki videos main hamesha dekhta tha but dekhker haraan hua maine subscribe nahi kiya hua tha aapka asullo pe kaam rehne ke channel subscribe for sure. Great work.

  15. Mohsin shaikh says:

    Shai hai bhai koi ek k to aavaz uthana pdga.. baki sab k sab k sab apna zamir bach 6uk hai.

  16. Areeb khan says:

    Sir ek sawal tha mere mind mein ki aap ko kab aur kaise pata chala ki (kia motors) Phele hi aapni passand ki media house se drive kar va chuki hai. Lakin sir aap ki baat mein dum sahi baat hai aapki sab ko bara ber ka right millna chahiye

  17. Hariom Meena says:

    Gagan Bhai we support you… & I salute your stand against KIA’s act what they have done.
    We need journalist like you. And i heartly thanks to all your team & other auto journalust who were stand with you…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *